Powered by Blogger.

ഒരു ഹൈടെക് പുതുവര്‍ഷത്തിലേയ്ക്ക് ഏവര്‍ക്കും സ്വാഗതം.....

അഭ്യാസമില്ലാത്തവര്‍ പാകം ചെയ്തെതെന്നോര്‍ത്ത് സഭ്യരാം ജനം കല്ലുനീക്കിയും ഭുജിച്ചീടും..എന്ന വിശ്വാസത്തോടെ

Friday, October 08, 2010

बार बार पढें, सोचें...हम हैं कौन?

    यहाँ दबाएँ। क्या हाल हैं?

3 comments:

  1. अज्ञानता की जब तक है,
    घनी धुँध छायी; वह 'क़ाली' है.
    भद्रक़ाली - कपालिनी - डरावनी है.
    ज्ञानरूप जब चक्षु खुला,
    देखा, अरे! वह 'गोरी' है, 'गौरी' है.
    वह अब अम्बा है, जगदम्बा है
    ब्रह्मानी रूद्राणी कमला कल्याणी है
    चेतना हुई है अब जागृत,
    माँ ने इसे कर दिया है- झंकृत.
    सचमुच आज सन्मार्ग दिखाया है,
    मुझे सत्य का बोध कराया है.

    ReplyDelete

'हिंदी सभा' ब्लॉग मे आपका स्वागत है।
यदि आप इस ब्लॉग की सामग्री को पसंद करते है, तो इसके समर्थक बनिए।
धन्यवाद

© hindiblogg-a community for hindi teachers
  

TopBottom