Powered by Blogger.
NEWS FLASH
വിക്ടേഴ്സ് ചാനലിലെ ഹിന്ദി ക്ലാസ്സുകളുടെ ലിങ്ക് അതത് ക്ലാസ്സിന്റെ പേരിലുള്ള ടാബുകളില്‍ ലഭ്യമാണ് ....

Wednesday, September 23, 2020

लुक लुक के देखना

आई एम कलाम के बहाने पाठभाग के सन्गर्भ में लुक लुक के देखना-इसके लिए कोई विशेष अर्थ ढूँढने की ज़रूरत नहीं। यहाँ मोरपाल के सरस और भोले व्यक्‍तित्व का संकेत है। तभी तो मिहिर उस प्रत्येक घटना की याद रखते है। परोक्ष रूप से पाठ भाग की अन्य घटनाएँ, जैसे-राजमा चावल देखकर मोरपाल का देखना, रणविजय को स्कूल जाते देखकर छोटू का देखना, कलाम को टीवी में भाषण करते देखकर छोटू का देखना(देखिए-यहाँ पर लुक लुक के देखना है, जो हमारे दिल को छू लेता है।) अब देखिए, लुक लुक के देखने का प्रसंगानुसार कितना सटीक अर्थ हो गया! इसलिए लेखक को सह स्मृति से look वाली घटना की याद आती है। यही प्रत्येक रचना की खूबी भी है।

Monday, September 14, 2020

हिंदी दिवस

भारत सरकार के सभी कार्यालयों, उपक्रमों, उद्यमों, संस्थाओं में हिंदी पखवाड़ा हर वर्ष १४ सितंबर से २८ सितंबर अथवा १ सितंबर से १४ सितंबर तक मनाया जाता है। १४ सितंबर को हिंदी दिवस के रुप में मनाया जाता है। भारत सरकार के केंद्रीय गृह मंत्रि जी का संदेश १४ सितंबर को प्रकाशित किया जाता है। केद्रीय हिंदी समिति के अध्यक्ष के नाते भारत के प्रधान मंत्री जी तथा महामहिम राष्ट्रपति जी का संदेश भी जारी किया जाता है। राजभाषा हिंदी के प्रति जागरुकता पैदा करने के लिए हिंदी पखवाडे के दौरान अनेक हिंदी कार्यक्रम, प्रतियोगिताएँ, कवि सम्मेलन, संगोष्ठी, भारतीय स्तर पर हर विभाग द्वारा राजभाषा सम्मेलन भी आयोजित करने का प्रावधान है। हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में हिंदी में अधिक कार्य करनेवाले अधिकारियों एवं कर्मचारियों को सम्मानित किया जाता है। यह देखा जाता है कि हिंदी पखवाड़े के दौरान कार्यालयों में हिंदी पत्राचार में कितना प्रतिशत कार्य बढ गया है । मा,संसदीय राजभाषा निरीक्षण समिति कार्यालय का निरीक्षण करते समय इस बात पर उचित ध्यान देती है। हिंदी पखवाडे का आयोजन कार्यालय की सुविधानुसार हिंदी दिवस के पहले या बाद में किया जाता है।

Monday, August 24, 2020

टूटा पहिया - टिप्पणी

श्री धर्मवीर भारति बहुमुखी प्रतिभा संपन्न साहित्यकार है। वे प्रयोगवादी कवि के रूप में विख्यात है। टूटा पहिया श्री. धर्मवीर भारति की बहुचर्चित कविता है। महाभारत की कथा में वर्णित अभिमन्यु के रथ का ‘टूटा पहिया’ कवि की दृष्टि में टूटे हुए मन का प्रतीक बन गया है । आधुनिक संदर्भ में वह व्यक्ति जो अन्याय के सामने नतमस्तक है, शौर्यहीन है, उसके लिए यह टूटा व्यक्ति भी नवीन युग के निर्माण का आश्रय बन सकता है, इन संभावनाओं के मध्य कवि की आस्थावादी दृष्टि इस तरह प्रकट की है-कवि के मत में यह युग अंधा है। टूटे पहिए का प्रतीकात्मक चित्रण करके कवि ने संकेत किया है कि आज संसार में सर्वत्र मानव मूल्यों का अभाव है। सारे मानव मूल्य टूट गए हैं। फिर भी कवि निराश नहां है। कवि का विश्वास है कि पतन के गर्भ में जानेवाली दुनिया को ये जर्जर मूल्य ही सहायक सिद्ध होंगे। टूटा पहिया कविता में यही आसावादी स्वर मुखरित हुआ है।
कवि कहते हैं कि मैं रथ (जीवन) का टूटा पहिया (टूटा हुआ मानव मूल्य) हूँ। लेकिन मुझे फेंको मत। क्यों कि शोषण और पीड़न से संत्प्त कोई दुस्साहसी अभिमन्यु(साधारण जन) मुझे अपने हाथ में लेगा। हो सकता है वह अक्षौहिणी सेनाओं को (अत्याचारी शोषकों को) चुनौती देता हुआ शोषण-पीड़न की व्यवस्था का शिकार हो जाए।
महाभारत युद्ध में अधर्म और अत्याचार का विरोध करते हुए दुस्साहसी अभिमन्यु ने टूटे पहिए से कौरवों की अक्षौहिणी सेनाओं का सामना किया था। उसी तरह अधर्म का विरोध करने केलिए साधारण जनता आगे आएगी, इस आशय का संकेत कवि ने इन पंक्तियों में दिया है।
अपने पक्ष को असत्य जानते हुए भी महाभारत युद्ध में बड़े-बड़े महारथी मिलकर निरायुध अभिमन्यु पर आक्रमण किया था। किसी ने अभिमन्यु की असहाय आवाज़ पर ध्यान नहीं दिया। तब मैं (मानव मूल्य) टूटा पहिया बनकर आभिमन्यु के हाथ का हतियार बना था (अभिमन्यु ने रथ के टूटे पहिए का हथियार बना लिया था)। सब के द्वारा उपेक्षित मानव मूल्य कहता है कि मैं रथ का टूटा पहिया हूँ। मैं ब्रह्मास्त्रों (अधर्म और अत्याचार) से लड़ सकता हूँ। इसलिए मुझे फेंको मत।
कवि ने परोक्ष रूप में इस बात की ओर संकेत किया है कि आज संसार में टूटे मानव मूल्यों की आवश्यकता है।
समाज के इतिहास की गति सत्य और धर्म के पथ को छोड़कर चले तो सच्चाई को टूटे हुए पहियों का आश्रय लेना पड़ता है। अर्थात पतन के गर्भ में जानेवाली दुनिया को मानव मूल्यों का आश्रय लेना ही पड़ेगा। कवि के कहने का तात्पर्य यह है कि आज के जो उपेक्षित मानव मूल्य है, हो सकता है कल उनकी ज़रूरत हो।
‘टूटा पहिया’കവിതയുടെ ഓണ്‍ലൈന്‍ ചോദ്യങ്ങള്‍ക്കായി  ക്ലിക്ക് ചെയ്യുക
Click Here GIF | Gfycat 
‘टूटा पहिया’ കവിതയുടെ ആശയം ഉള്‍ക്കൊള്ളാന്‍ സഹായകമായ അധികവിവരങ്ങള്‍ 
https://sites.google.com/site/hindisabhaktr/cabin/TOOTA-2.pdf?attredirects=0&d=1
താത്പര്യമുള്ളവര്‍ക്ക് കവിതയുടെ വ്യാഖ്യാനം മനോഹരമായ ലേ-ഔട്ടില്‍
പി.ഡി.എഫ് ആയി ലഭിക്കും. ഇതിനായി നിങ്ങളുടെ ഇ മെയില്‍ വിലാസം കമന്റായി നല്കുക 

© hindiblogg-a community for hindi teachers
  

TopBottom