Powered by Blogger.

ഒരു ഹൈടെക് പുതുവര്‍ഷത്തിലേയ്ക്ക് ഏവര്‍ക്കും സ്വാഗതം.....

അഭ്യാസമില്ലാത്തവര്‍ പാകം ചെയ്തെതെന്നോര്‍ത്ത് സഭ്യരാം ജനം കല്ലുനീക്കിയും ഭുജിച്ചീടും..എന്ന വിശ്വാസത്തോടെ

Wednesday, July 29, 2015

सुख-दुख कविता (व्याख्या भाग-2)

जग पीड़ित है अति-दुख से 
जग पीड़ित रे अति-सुख से, 
मानव-जग में बँट जाएँ 
दुख सुख से औ’ सुख दुख से ! 
 अविरत दुख है उत्पीड़न, 
अविरत सुख भी उत्पीड़न; 
दुख-सुख की निशा-दिवा में, 
सोता-जगता जग-जीवन ! 
यह साँझ-उषा का आँगन, 
आलिंगन विरह-मिलन का; 
चिर हास-अश्रुमय आनन 
रे इस मानव-जीवन का !

कवि कहते हैं कि अधिक सुख और दुख दोनों से भी दुख ही पाते हैं। मानव सुख की अधिकता ही नहीं बल्कि सुख की अधिकता भी सह नहीं सकेगा। अधिक सुख दुख ही देगा। इसलिए उसका बराबर बंटवारा हो जाना चाहिए। याने सुख-दुख के समन्वय से ही मानव जीवन आराम पा सकता है।
कवि कहते हैं कि लगातार मिलनेवाले सुख और दुख दोनों मानव को दुख ही देते हैं। इसलिए रात और दिन बदलते ही रहते हैं , उसी प्रकार मानव – जीवन में सुख और दुख को बदलते रहना चाहिए। एसा होगा तो रात रूपी दुख में मानव जीवन सोता रहेगा दिन रूपी सुख में जागता रहेगा। रात को दुख का प्रतीक और दिल को सुख का प्रतीक मानता है।
मानव जीवन में हँसी और रुलाई दोनों सदा रहते हैं। जैसे सबेरा होता है, शाम होती है, फिर सबेरा होता हैवैसे ही जीवन में सुख मिलते हैं,फिर दुख,फिर सुख। इस तरह सुख-दुख में हँसते रोते मानव जीवन आगे बढ़ता है। सुख की हँसी और दुख की रुलाई दोनों मानव जीवन केलिए अनिवार्य होता है। यही हँसना रोना तो वास्तव में मानव का जीवन है या दुनिया का जीवन है।

4 comments:

'हिंदी सभा' ब्लॉग मे आपका स्वागत है।
यदि आप इस ब्लॉग की सामग्री को पसंद करते है, तो इसके समर्थक बनिए।
धन्यवाद

© hindiblogg-a community for hindi teachers
  

TopBottom