Powered by Blogger.

ഒരു ഹൈടെക് പുതുവര്‍ഷത്തിലേയ്ക്ക് ഏവര്‍ക്കും സ്വാഗതം.....

Thursday, October 27, 2011

रविजी का पत्र

दूधो नहाओ पर व्याख्या
पयारे हिंदी अध्यापक बंधुओ,
क्या आप लोगो ने इस संदर्भ पर ध्यान दिया है?
"गौरा प्रात: सायं बारह सेर के लगभग दूध देती थी, अत: लालमिण के लिए कई सेर
छोड देने पर भी इतना अधिक शेष रहता था कि आसपास के बालगोपाल से लेकर
कुत्ते-बिल्ली तक सब पर मानो 'दूधो  नहाओ' का आशीर्वाद फलित होने लगा।" (गौरा
पृ.सं. 13)

Downloads:

1 comment:

  1. दूधो नहाओ पर आपकी व्यख्या बहुत अच्छा हैं। बधाइयॉं ।

    ReplyDelete

'हिंदी सभा' ब्लॉग मे आपका स्वागत है।
यदि आप इस ब्लॉग की सामग्री को पसंद करते है, तो इसके समर्थक बनिए।
धन्यवाद

© hindiblogg-a community for hindi teachers
  

TopBottom