Powered by Blogger.

ഒരു ഹൈടെക് പുതുവര്‍ഷത്തിലേയ്ക്ക് ഏവര്‍ക്കും സ്വാഗതം.....

അഭ്യാസമില്ലാത്തവര്‍ പാകം ചെയ്തെതെന്നോര്‍ത്ത് സഭ്യരാം ജനം കല്ലുനീക്കിയും ഭുജിച്ചീടും..എന്ന വിശ്വാസത്തോടെ

Monday, May 28, 2012

हिन्दी विकिपीडिया : हिन्दी के नवजागरण का सुअवसर

 साभार - प्रतिभास

हिन्दी अपनी वर्तमान स्थिति को कई आन्दोलनों और सुविचारित प्रयत्नों के द्वारा पहुँच पायी है। मैं इसकी वर्तमानस्थिति से संतुष्ट नहीं हूँ किन्तु मुझे इसका भविष्य बहुत उज्ज्वल दिखाई पड़ रहा है। मेरा मानना है कि 'भाग्य मेंलिखा' जैसा कुछ नहीं होता बल्कि कोई घटना या कार्य तभी होता है जब उसके लिये आवश्यक प्रयत्न किये जाँय।अतः हिन्दी का भविष्य भी अपने आप या भाग्य के सहारे उज्ज्वल नहीं होने वाला, इसके लिये प्रयत्न करने होंगे।
सुअवसर आते रहते हैं, हमे सुअवसर को पहचानना होगा और उसके अनुसार काम करना होगा। विकिपीडिया इसीप्रकार का सुअवसर है जिसका समुचित उपयोग कर हिन्दी को नवजागृत किया जा सकता है। जो अब तक कभीसोचा भी नहीं गया था, वह अब सम्भव है।
हिन्दी का पिछला जागरण सौ-सवा सौ साल पहले आया था जब भारत में भी प्रिंटिंग प्रेस आया। हिन्दी मेंपत्र-पत्रिकाओं, यशस्वी पत्रकारों, साहित्यकारों की बाढ़ आ गयी थी। हिन्दी में अजीब स्फूर्ति आयी थी। हिन्दी नेअपना विकास करते हुए 'भारत के स्वतंत्रता आन्दोलन की भाषा' के रूप में भूमिका अदा की और देश के कर्नधारोंने इसे राष्ट्रभाषा का अधिकारी माना और इसे वह स्थान भी दिया गया। (किन्तु बाद में विदेशी हाथों में खेलने लेसत्ता ने षडयंत्रपूर्वक क्रमशः उसका यह अधिकार कम किया और कम करते गये।)
जनता की भाषा जब ज्ञान-विज्ञान के प्रसार का माध्यम बनती है तो उसका विकास होता है और उसका विकासहोने से ज्ञान-विज्ञान की वृद्धि होती है। जिस प्रकार पुस्तकों के प्रकाशन के बाद यूरोप में वैज्ञानिक क्रांति सम्भवहुई उससे अधिक सम्भावना भाषाई विकियों (जैसे हिन्दी विकी) में है। पुस्तकों की अपेक्षा इसमें अनेक अपूर्व गुण हैं। यह कभी बासी नहीं होगी; इसमें कोई भी, कभी भी, कहीं से भी योगदान कर सकेगा ; इसमें न केवल विद्वानलिखेंगे बल्कि विद्यार्थी, किसान, जवान, शिल्पी, वकील, अध्यापक, इंजीनियर, डॉक्टर, वकील, समाजसेवी, धर्मसेवी, राजनेता आदि भी लिखेंगे। इसमें लिंकिंग की जो अद्भुत क्षमता है वह पुस्तकों में नहीं है; इसमें खोजन (सर्च) की क्षमता पुस्तकों में खोजने की क्षमता के सैकड़ों गुना बेहतर है; इसको वितरित करना (शेयरिंग), बहुगुणित करना बहुत आसान और बहूपयोगी है। इसमें लिखने से चीजें अमर बन जातीं हैं - यदि वे उपयोगी हैं तो सदा सबको उपलब्ध होंगी।

No comments:

Post a Comment

'हिंदी सभा' ब्लॉग मे आपका स्वागत है।
यदि आप इस ब्लॉग की सामग्री को पसंद करते है, तो इसके समर्थक बनिए।
धन्यवाद

© hindiblogg-a community for hindi teachers
  

TopBottom