Powered by Blogger.

ഒരു ഹൈടെക് പുതുവര്‍ഷത്തിലേയ്ക്ക് ഏവര്‍ക്കും സ്വാഗതം.....

അഭ്യാസമില്ലാത്തവര്‍ പാകം ചെയ്തെതെന്നോര്‍ത്ത് സഭ്യരാം ജനം കല്ലുനീക്കിയും ഭുജിച്ചീടും..എന്ന വിശ്വാസത്തോടെ

Wednesday, December 25, 2013

अंधेर नगरी

अराजकता के कारण लोगों को राजनीति में विश्वास नष्ट होना।
मोड्यूल 1 अंक 1
ज् हास्य-व्यंग्य साहित्य के द्वारा क्या दिखाना चाहते हैं। समाजिक अराजकता के कारण राजनीति
की जड़ें हिलती हैं। ऐसी एक प्रहसन है भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की "अंघेर नगरी"। पढ़ें-
वाचन प्रक्रिया:
? महंत कौन है? उनके शिष्य कौन-कौन हैं?
? उनको कहाँ कहाँ भेजता है?
? कौन चना बेचता है?
? बाज़ार में सभी चीज़ें कितने दाम में बेचते हैं?
? इस नगरी का नाम क्या है?
? यहाँ के राजा कौन है?
? महंत ने अपने शिष्यों को क्या चेतावनी दी?
? गोवर्धनदास ने गुरु से क्या कहा?
? महंत उस नगरी से जाते समय गोवर्धन से क्या कहा?
छात्र उत्तर दें।
अंक 2,3
? फरियादी ने राजा से किस न्याय की मांग की?
? फरियाद के आधार पर किन-किन को महाराज के सामने हाज़िर की?
? राजा ने कोतवाल को फाँसी की सज़ा क्यो नहीं दी?
? उसके स्थान पर किसको दंड देना चाहते हैं? क्यों?
? इस दंड के द्वारा राजा का उद्देश्य क्या है?
? गोवर्धन को क्या याद आई? उसने क्या सोचा?
? गोवर्धन ने महंत से क्या प्रार्थना की?
? महंत ने गोवर्धन के कान में क्या कहा?
? गोवर्धनदास और महंत फाँसी पर चढ़ने के लिए हठ करते हैं। क्यों?
? राजा ने महंत से क्या पूछा? महंत ने क्या उत्तर दिया?
? अंत में राजा का इरादा क्या था?
? इस प्रहसन का व्यंग्य क्या है?
लिखें- निम्न पात्र किन-किन के प्रतीक हैं?
चौपट राजा -
मंत्री -
महंत -
नारायणदास -
गोवर्धनदास -
फरियादी -
सिपाही -
क अंधेर नगरी किस व्यवस्था का प्रतीक है?
ज् "अंधेर नगरी" प्रहसन का मंचीकरण करने के लिए स्कूल की ओर से एक पोस्टर तैयार करें।
कक्षा मूल्याँकन
1. नमूने के अनुसार सूचना संबंधी अन्य दो संकेत पर लिखें।
No admission
अंदर आना मना है।

Sorry for the interruption धीरे चलिए।
May I help you ? निकास
Exit रुकावट के लिए खेद है।
Go slow क्या मैं आपकी सहायता करूँ?
इस पोस्टर की पूर्ति करें:

...............
समाज की नेत्री
महिला का आदर करें
..................
विश्व महिला दिवस
  • ज् मान लें, एक समाचार पत्र की रपट का शीर्षक यों है- "दहेज के मामले में पत्नी की हत्या"
वर्तमान समाज की इस बुरी हालत पर कबीर की नीति संबंधी दोहे की प्रासंगिकता पर एक लेख
लिखें।

No comments:

Post a Comment

'हिंदी सभा' ब्लॉग मे आपका स्वागत है।
यदि आप इस ब्लॉग की सामग्री को पसंद करते है, तो इसके समर्थक बनिए।
धन्यवाद

© hindiblogg-a community for hindi teachers
  

TopBottom