Powered by Blogger.

ഒരു ഹൈടെക് പുതുവര്‍ഷത്തിലേയ്ക്ക് ഏവര്‍ക്കും സ്വാഗതം.....

അഭ്യാസമില്ലാത്തവര്‍ പാകം ചെയ്തെതെന്നോര്‍ത്ത് സഭ്യരാം ജനം കല്ലുനീക്കിയും ഭുജിച്ചീടും..എന്ന വിശ്വാസത്തോടെ

Wednesday, May 09, 2012

नदी और साबुन ' कविता का शेष अंश

'नदी और साबुन' का आशय स्पष्ट होने के लिए कविता का शेष अंश का भी पढ़ना अनिवार्य है।
नदी और साबुन ' कविता का शेष अंश 
एक नीली साबुन-बट्टी
वह एक बहुराष्ट्रीय कंपनी का 
बहुप्रचलित साबुन है। 
दुखियारी महतारी है गंगा 
उसका जी काँपता है डर से 
उसकी प्रतिद्वंद्वी हथेली-भर की वह 
जो साबुन की टिकिया है 
इजारेदार पूँजीवाद की बिटिया है 
उसका बलाबली झाग उठने से पहले 
गंगा के दिल में हौल उठता है। 
 (महतारी : माँ, महाबली : अत्यंत बली, बट्टी : छोटी गोल लोटिया-टिकिया, इजारे दार : ठेकेदार, हौल : डर,भय)
साभार - रवि, चिराग

No comments:

Post a Comment

'हिंदी सभा' ब्लॉग मे आपका स्वागत है।
यदि आप इस ब्लॉग की सामग्री को पसंद करते है, तो इसके समर्थक बनिए।
धन्यवाद

© hindiblogg-a community for hindi teachers
  

TopBottom